गर्मी में भी आपको कूल कर देंगे ये 4 पेय | गर्मी दूर करने का देसी मॉकटेल्स

Spread the love

गर्मी में भी आपको कूल कर देंगे ये 12 पेय | गर्मी दूर करने का देसी तरीका

भयंकर गर्मी में अगर आप किसी ठन्डे पेय पदार्थ को पीते हैं तो ऐसा लगता है जैसे अमृत मिल गया है तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे शीतल पेय के बारे में जीना सेवन गर्मियों में करने से मिलती है तन को ठंडक। और आप गर्मी से व् लू से बचे रह सकते हैं।

गर्मियों के देसी पेय

गर्मियों में हमें अपने खान पान पर विशेष ध्यान देने की जरुरत होती है क्यों की पसीना आने के कारन हमारे शरीर से जरुरी मिनरल्स निकल जाते हैं। ऐसे में डिहाइड्रेशन की समस्या न हो इसलिए डॉक्टर्स भी हमें लगातार पेय पदार्थ पिने की सलाह देते हैं जिससे हमारे शरीर में पानी की आपूर्ति बानी रहे।  तो इन गर्मियों आपको और आपके परिवार को ये समस्या न हो इस लिए हम ले कर ए हैं कुछ ऐसे पेय पदार्थ जिन्हे बनाना भी आसान है और ये गर्मी में आप को तरोताज़ा भी रखेंगे।
Photo by Engin Akyurt from Pexels

निम्बू पानी

भारत का पारम्परिक पेय निम्बू पानी को कहना कोई अतिशोक्ति नहीं होगी।  निम्बो पानी प्यास भुझाने के साथ साथ बार बार जी मिचलाने की राम पक्की औषधि है। इसे बनाना इतना सान है जितना आप सोच भी नहीं सकते, इसे बनाने के लिए एक गिलास में निम्बू , पानी, चीनी और काला नमक मिला लें।बस तैयार है आपके लिए निम्बू पानी ,क्यों है न आसान!

सत्तू

सत्तू पेट की गर्मी को शांत करने के लिए सबसे असरदार माना जाता है। वैसे तो सत्तू बाज़ार में आसानी से मिल जाता है पर यदि आप चाहें तो इसे घर पर भी बना सकते हैं इसको बनाने के लिए चना और जौ   को बराबर मात्रा में मिला कर पीस लें  और इसे पानी में मिला कर अपने स्वाद अनुसार नमक या चीनी डाल कर सेवन कर सकते हैं। 
 
गर्मियों में पुदीना बड़ा ही फायदेमंद होता है  इसमें पिपरमिंट होता है ये लू, बुखार, जलन, उलटी आदि की समस्या में बड़ा ही उपकारी होता है इसका पेय बनाने के लिए पुदीने की पत्तियों को पीस ले और उनमे स्वाद अनुसार कला नमक, चीनी, भुना हुआ जीरा मिला कर सेवन करें।

ठंडाई

गर्मी में ठंडाई का सेवन बड़ा ही प्रचलित है ये पइसे हुए मेवे और दूद से बना एक शीतल पेय होता है और ये कई फ्लेवर में आपको मिल सकता है। बस इसे एक गिलास में लें उसमे दूध और चीनी मिलाएं और इसका आनंद लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *