Yoga for health |All about international yoga day | योग कब कैसे और क्यों ?

Spread the love

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020

international yoga day
Photo by cottonbro from Pexels
योगा दिवस 21 जून को मनाया जाता है। पर क्या आपको पता है कि योगा दिवस 21जून को ही क्यों मनाया जाता है ? और इसकी शुरुआत कब और कहाँ  हुई ? अगर आप नहीं जानते तो इससे जुड़ी सारी बातें जानने के लिए यह लेख पूरा पढ़ें।

कब से हुई थी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत –

आज से 6 साल पहले 2015 में हमने पहली बार योगा दिवस मनाया था और इस बार हम अपना छठा योगा दिवस मना रहे हैं।
 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में स्वीकार किया और विश्व योग दिवस के रूप में इस को मान्यता दी गई। इसके बाद से 2015 से अंतरराष्ट्रीय योग पूरी दुनिया में मनाया जाने लगा।

योग का इतिहास –

 अगर हम योगा के इतिहास की बात करें तो ऐसा माना जाता है कि जब से मानव सभ्यता शुरू हुई है तब से योग किया जा रहा है योग विज्ञान की  उत्पत्ति हजारों साल पहले हुई थी धर्म या आस्था के जन्म लेने से भी काफी पहले योग की शुरुआत हो गई थी योग विद्या में शिव को सबसे पहले योगी या फिर आदि योगी के रूप में या योग गुरु के रूप में माना जाता है कई हजार साल पहले हिमालय की कांति सरोवर झील के तटों पर आदि योगी ने अपने प्रबुद्ध ज्ञान को अपने प्रसिद्ध सप्तर्षियों को प्रदान किया था और उन्होंने ही इस ताकतवर विज्ञान को एशिया, मध्य पूर्वी अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका सहित विभिन्न भागों में पहुंचाया।

बी. के. एस.  अयंगर दुनिया के पहले योग गुरु थे।

B. K. S. Iyengar फर्स्ट योग गुरु
B.K.S. Iyengar
    अयंगर योग के नाम से विख्यात योग शैली के संस्थापक श्री बी. के. एस. अयंगर (बेल्लूर कृष्ण्मचारी सुंदरराज अयंगर  को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ योग शिक्षकों के रूप में माना जाता है।
योग के द्वारा आप कठिन से कठिन बीमारियों का इलाज कर सकते हैं अस्थमा ,मधुमेह ,रक्तचाप, गठिया, पाचन विकार, सम्बंधित  इन सारी बीमारियों का सफल विकल्प है योग।
 खास तौर पर आधुनिक विज्ञान जो आज तक काफी विषयों का उत्तर नहीं दे पा रही है उनका भी योग के द्वारा इलाज संभव है। इन सब में योग चिकित्सा तंत्र बहुत ही प्रभावी माना गया है।
 आज के तनावपूर्ण जीवन एवं बदलती दिनचर्या और उलझता सामाजिक ताना -बना,  ऐसे में समाज को स्वस्थ बनाए रखने के लिए योग को मुख्य साधन मान सकते हैं।
बुरी आदतों के प्रभावों को उलट कर यह आपको बहुत अधिक आराम देता है ज्यादा मोबाइल फोन का प्रयोग,  ज्यादा देर कुर्सी पर बैठे रहना या गलत खान-पान  करना इन सारी चीजों में हमें योग काफी आराम दिला सकता है।

योग दिवस मनाने का कारण –

यदि हम भारतीय संस्कृति की बात करें और पुरातन मान्यता की मानें तो ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है और ऐसे में 21 जून को साल का सबसे बड़ा दिन माना जाता है और इस दिन सूर्य जल्दी उदय होकर देर से ढलता है इसीलिए इस दिन को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रुप में स्वीकार किया गया।

क्या है इस साल की थीम-

कोरोनावायरस महामारी या कोविड-19 के चलते इस बार की थीम है- ‘घर पर रहकर योग करें ‘
Photo by Elly Fairytale from Pexels
Photo by Elly Fairytale from Pexels
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 की थीम है घर पर रहिए और अपने परिवार के साथ योग करिए। (Yoga for Health – Yoga at Home

योग दिवस का महत्व –

 भारतीय जीवन में योग को सकारात्मक ऊर्जावान बनाए रखने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है इस दिवस को मनाने का उद्देश्य है कि लोगो में स्वस्थ्य के प्रतिजागरूकता पैदा करना।
योग एक ऐसी प्रक्रिया है जो कि आपको आज की जीवनशैली में जरूर अपनानी चाहिए। शारीरिक रूप से या मानसिक रूप से अपने जीवन को स्वस्थ रखने के लिए योग का आपके जीवन में खास महत्व है।
 यदि यह आपके जीवन शैली या डेली रूटीन का एक हिस्सा बन जाये तो आप अपने चेहरे की डबल चिन हो या फिर आपका एक्स्ट्रा फैट ,चाहे  आपके दिल को स्वस्थ रखने की जरूरत हो या शरीर को फिट। योगा आपके लिए हर तरह से मददगार हो सकता है।

जाने पूर्व की थीम को भी –

  • 2015 की थीम – सद्भाव और शांति के लिए योग।
  • 2016 की थीम – युवाओं को  कनेक्ट करें।
  • 2017 की थीम – स्वास्थ्य के लिए योग।
  • 2018  की थीम –  शांति के लिए योग।
  • 2019 की थीम – योगा फॉर हार्ट।
  • 2020 की थीम है – घर पर योगा परिवार के साथ।

योग के नियम –

योग को करने के कुछ नियम होते हैं यदि आप साधारण नियमों का पालन करें तो आप योग का भरपूर  लाभ ले पाएंगे।
1 . किसी गुरु के निर्देशन में ही योग्य अभ्यास शुरू करें।
2 .सूर्योदय या सूर्यास्त के समय ही योग करें।
3 . योग करने से पहले स्नान जरूर करें।
4 . योग को हमेशा खाली पेट करना चाहिए।
5. सूती तथा आरामदायक कपड़े पहनने चाहिए।
6 .तन की तरह मन को स्वच्छ रखें बुरे ख्यालों को दिमाग से निकाल शांत वातावरण में बैठ। अपना ध्यान अपने योग अभ्यास पर केंद्रित करें।  कोशिश करें कि अधिक से अधिक समय तक आप अपने आप को एवं अपने दिमाग  को केंद्रित रख पाए।
7 . योग अभ्यास धैर्य और दृढ़ता के साथ करें शरीर के साथ जबरदस्ती नहीं करना है।
8 .धीरज रखना है। योग के लाभ को महसूस होने में थोड़ा वक्त लगता है इसलिए अपना धैर्य बनाए रखें और निरंतर योग का अभ्यास जारी रखें।
9 .योग करने के 30 मिनट के बाद तक कुछ भी ना खाएं और 1 घंटे तक ना नहाएं।
10 .अभ्यास करने से यदि कोई मेडिकल तकलीफ हो तो डॉक्टर से सलाह लें या कोई नई तकलीफ शुरू हो तो आप हमेशा योग का अभ्यास रोक दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *