कटहल के 15 फ़ायदे और नुकसान | kathal-ke-fayede-aur-nuksan

Spread the love


कटहल को शाकाहारी लोगों का मीट कहा जाता है। यह अंजीर की प्रजाति का फल होता है ।इसका वजन 55 किलो तक हो सकता है। कटहल का पेड़ 3 मीटर ऊंचा होता है। कटहल के 1 पेड़ में करीब 200-300 फल लग सकते हैं ।और यह फल साल में दो बार आते हैं । कटहल में फाइबर की मात्रा भरपूर होती है और कैलोरी बिल्कुल नहीं होती।आज हम कटहल के ऐसे 15 फायदों की बात करेंगे जो आपके लिए काफी उपयोगी साबित होंगे ।पर आपको ये जानना आवश्यक है की किसी भी चीज़ के फायदे के साथ-साथ उसके नुक्सान भी हो सकते हैं। kathal ke fayede aur nuksan को जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें। चलिए सबसे पहले यह जान लेते हैं की कटहल क्या है?

Table of Contents

क्या है कटहल (kathal is a fruit or vegetable) ?


काफी लोगों में कटहल के बारे में मतभेद है। कुछ लोग इसे फल मानते हैं तो कुछ लोग इसे सब्जी मानते हैं।जो भी हो कटहल खाने के अनेकानेक फायदे होते हैं। क्योंकि कटहल औषधीय गुणों से भरा होता है । कटहल में बहुत सारे पौष्टिक तत्व होते है। जिन्हे आप नीचे की सारणी से समझ सकते है। यह तत्व शरीर को अनेक बिमारियों से बचाते हैं। जिनमे से प्रमुख रोगों की बात हम इस लेख में करने वाले हैं।

कटहल के पौष्टिक तत्व – Jackfruit Nutritional Value in hindi

पोषक तत्वमात्रा ( प्रति 100 ग्राम)
पानी (ग्राम)73.46
ऊर्जा (kcal)95
प्रोटीन  (ग्राम)1.72
कुल फैट  (ग्राम)0.64
कार्बोहाइड्रेट (ग्राम)23.25
फाइबर, कुल डायटरी (ग्राम)1.5
शुगर (ग्राम)19.08
मिनरल्स
कैल्शियम (मिलीग्राम)24
आयरन  (मिलीग्राम)0.23
मैग्नीशियम (मिलीग्राम)29
फास्फोरस (मिलीग्राम)21
पोटैशियम (मिलीग्राम)448
सोडियम (मिलीग्राम)2
जिंक  (मिलीग्राम)0.13
विटामिन्स
विटामिन सी, कुल एस्कॉर्बिक एसिड (मिलीग्राम)13.7
थायमिन (मिलीग्राम)0.105
राइबोफ्लेविन (मिलीग्राम)0.055
नियासिन (मिलीग्राम)0.920
विटामिन बी-6 (मिलीग्राम)0.329
फोलेट, डीएफई  (µg)24
विटामिन ए, आरएई (µg)5
विटामिन ए, (IU)110
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफ़ेरॉल) (मिलीग्राम)0.34
लिपिड
फैटी एसिड, कुल सैचुरेटेड (ग्राम)0.195
फैटी एसिड, कुल मोनोअनसैचुरेटेड (ग्राम)0.155
फैटी एसिड, कुल पॉलीअनसैचुरेटेड (ग्राम)0.94
कटहल के पौस्टिक तत्व

इसे भी पढ़ें- जामुन स्लश बनाए बड़ी आसानी से स्वाद भी और सेहत भी।


कटहल के 15 बड़े फायदे ( 15 jackfruit benefits )

ऊपर हमने कटहल की नुट्रिशन वैल्यू को अच्छे से जान लिया ऊपर के चार्ट को देख कर ही कटहल के फायदे का अंदाजा लगाया जा सकता है। इसके पौष्टिक तत्व किस तरह और किस किस रोग में हमें फायदे पंहुचा सकते हैं। यह जानना बहुत जरुरी है। अब विचार आता है की क्या कटहल के कोई नुकसान भी हो सकते हैं ? तो आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी कि-अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप। मतलब किसी भी चीज़ की अति नुकसान देह साबित हो सकती है। चलिए जानते हैं कटहल किन किन रोगों में फायदा या नुकसान कर सकता है। तो चलिए जान लेते हैं kathal ke fayede aur nuksan

नीचे हमने कुछ 15 रोगों की एक सूची तैयार की है। ताकि आप kathal ke fayede aur nuksan ठीक तरह से समझ सकें।

1.दिल के रोगियों के लिए कटहल के फायदे-


कटहल के पल्प को मसलकर पानी में उबालकर पीने से कटहल दिल के लिए बहुत फायदेमंद होता है। कटहल के अंदर पाए जाने वाला पोटेशियम दिल की बीमारी में काफी लाभकारी होता है।


2.अस्थमा रोग के लिए कटहल के फायदे-

अस्थमा के रोगी को कटहल की जड़ को पानी में उबालकर देने से काफी लाभ प्राप्त होता है। 

3.हड्डियों के रोग में कटहल के फायदे –


कटहल में पाए जाने वाला मैग्नीशियम हड्डी के रोग या ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या से बचाता है। 


4.रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए कटहल के फायदे –


कटहल में पाया जाने वाला विटामिन Cऔर विटामिनA रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। कटहल, बैक्टीरियल, इनफेक्शन तथा वायरल इन्फेक्शन से भी बचाता है।

 5.हाई ब्लड प्रेशर में कटहल के फायदे-

 कटहल में पाए जाने वाला पोटैशियम हाई ब्लड प्रेशर का बेहतर विकल्प होता है। पोटेशियम सोडियम का प्रभाव कम कर देता है जिससे ब्लड सरकुलेशन बेहतर हो जाता है।

6. वजन घटाने में सहायक कटहल- 

अगर आप वजन घटाने की सोच रहे हैं तो कटहल का सेवन आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि कटहल में कैलोरी और वसा की मात्रा बिल्कुल ना के बराबर होती है। तो आज से ही कटहल का सेवन शुरू कर दीजिए।

7.ब्लड सरकुलेशन बढ़ाने तथा एनीमिया के लिए कटहल के फायदे

-कटहल में फाइबर अधिक होता है जो ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाता है। साथ ही इस में पाए जाने वाला आयरन अनीमिया भगाने के लिए मददगार होता है।

 8.अपच के लिए कटहल –

कब्ज एवम अपच में कटहल काफी गुणकारी होता है।


9.अल्सर के लिए गुणकारी कटहल-

अल्सर के इलाज के लिए कटहल की पत्तियों के राख का चूर्ण बनाकर अल्सर में खिलाना प्रभावशाली होता है।


10.थायराइड के लिए कटहल के लाभ

-कटहल में मौजूद खनिज एवं कॉपर थायरायड के लिए प्रभावशाली होता है। थायराइड में कटहल को उबालकर पीसकर उसका पानी देना चाहिए। 

11.जोड़ों के दर्द के लिए रामबाण औषधि कटहल-


 कटहल के दूध को जोड़ों की मालिश करनी चाहिए जिससे आपके जोड़ों के दर्द में कटहल काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। 


12.चेहरे के निखार के लिए कटहल के फायदे-

 चेहरे को दमकाने के लिए कटहल के बीज का चूर्ण बनाकर रख लीजिए। इसमें शहद और नींबू मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा दमक उठता है। धीरे-धीरे चेहरे पर लगाने के बाद सूखने पर धो लेना चाहिए। 

13.बुढ़ापा रोकने तथा झुर्रियों को भगाने में असरदार कटहल –


कटहल का पेस्ट बनाकर रखें। उसमें दूध और गुलाब की पिसी हुई पंखुड़ियां मिलाए। धीरे धीरे चेहरे की मसाज करें और फिर से धो लें।

14. आंखों की रोशनी बढ़ाता है कटहल का सेवन-


 कटहल को उबालकर उसका गूदा मसल कर पाने में सूप की तरह दे। यहां आंखों के लिए काफी ताजगी देता है।

15.मुंह के छालों में असरदार कटहल-


 यदि मुंह में छाले हो जाये तो कटहल की पत्तियों को चबाकर थूक देना चाहिए जिससे मुंह के छाले सही हो जाते हैं। साथ ही हार्मोन्स में होने वाला असंतुलन भी ठीक करता है कटहल।

इसे भी पढ़ें –कटहल बिरयानी | kathal biryani बनाए बहुत आसानी से।

4 thoughts on “कटहल के 15 फ़ायदे और नुकसान | kathal-ke-fayede-aur-nuksan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *