हिंगलाज का पौधा और उसके फायदे benefits of hinglaj plant in hindi

Spread the love

हिंगलाज का मंदिर जो की बलूचिस्तान पकिस्तान के हिंगोल नेशनल पार्क आशापुर में है। यह मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है। माता हिंगलाज के मंदिर के आस-पास यह पौधा सबसे अधिक पाया जाता है। जिसके कारण इसे हिंगलाज का पौधा भी कहते हैं। हिंगलाज का पौधा और उसके फायदे निम्नलिखित हैं।

Table of Contents

आयुर्वेद में हिंगलाज का महत्त्व

आयुर्वेद में हिंगलाज के पौधे को दादमर्दन के नाम से जाना जाता है तथा ये पौधा सैकड़ो रोगो में प्रभावकारी है।

हिंगलाज के पौधे की जड़ बीज तथा पत्तियों का इस्तेमाल अधिकतर किया जाता है।

इसे भी पढ़ें – समुद्री झाग के चमत्कारी लाभ

चर्म रोग या त्वचा सम्बन्धी परेशानियों के लिए हिंगलाज का पौधा का प्रयोग

चर्म रोग या त्वचा सम्बन्धी परेशानियों के लिए हिंगलाज की पत्तियों का प्रयोग काफी प्रभावकारी माना जाता है। अस्थमा तथा श्वास रोग में हिंगलाज के पौधे का काढ़ा तुरंत लाभकारी होता है। हिंगलाज पौधे की जड़ भी काफी उपयोगी होती है बच्चो में नज़र लगना या चिड़चिड़ा होने पर पर भी इसकी जड़ को गले में पहनने का प्रावधान मिलता है।

नवरात्री में हिंगलाज के पौधे का खास महत्त्व

आदिवासी लोग नवरात्रों में अखंड ज्योति के नीचे हिंगलाज पौधे की जड़ें रखते हैं। कुछ लोग ऐसा मानते हैं की इसकी जड़ को ज्वारे के नीचे दबाने से अखंड ज्योति कभी नहीं बुझती

बुरे सपने से बचने के लिए हिंगलाज की जड़ का प्रयोग hinglaj paudhe ki jad

इसे भी पढ़ें – कामलता के फूलों की ऐसी जानकारी जो और कही नहीं मिलेगी

सोते समय आने वाले बुरे सपने से बचने के लिए भी हिंगलाज पौधे की जड़ को सिरहाने रक्खा जा सकता है। इससे आने वाले बुरे सपनो से मुक्ति मिलती है।

हिंगलाज का पौधा कहाँ मिलता है और कैसा दिखता है ? hinglaj plant

हिंगलाज का पौधा नदी नालों के किनारे या सड़क किनारे स्वयं ही उग जाते हैं। इनके फूल पीले रंग के होते हैं। तथा इनमे लम्बी फलियां निकलती हैं।

 इसे भी पढ़ें- पकिस्तान में स्थित हिंगलाज मंदिर का रहस्य

हिंगलाज का आयुर्वेदिक प्रयोग त्वचा रोगों के लिए

इस पौधे का प्रयोग दाद खाज खुजली एक्सिमा सोराइसिस अपरस एड़ियों का फटना तथा कुष्ठ रोग आदि में लाभकारी होता है। हिंगलाज पौधा और फायदे अनगिनत हैं। त्वचा सम्बंधित सभी समस्याओं के लिए इसका अत्यधिक महत्त्व है। इसकी पतियों के लेप से त्वचा सम्बन्धी समस्याओं का इलाज किया जा सकता है।

हिंगलाज के प्रयोग की विधि एवं मात्रा

इस हिंगलाज पौधा और फायदे पाने के लिए इसकी ताज़ी हरी 50 ग्राम पत्तियां पीस कर चटनी बना लें। जिसमे 10 ग्राम फिटकरी पीस कर मिलाएं। यह लेप प्रभावित त्वचा पर लगाने से आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ें – एलोवेरा (घृतकुमारी ) से रोकिये बालों का झड़ना, त्वचा होगी ग्लोइंग, और मोटापा होगा कम

हिंगलाज का आयुर्वेदिक अमेज़िंग गार्डन

भारत के मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में माता हिंगलाज मंदिर के पास एक आयुर्वेदिक मेडिकेटेड गार्डन है। जिसमे नव ग्रहों के अनुसार पौधे लगे हुए हैं। जो की अपने आप में बेमिसाल और चमत्कारी है।

यदि ग्रहों की बात करें तो सभी मनुष्य कहीं न कहीं ग्रहों से प्रभावित होते हैं। ग्रहों की चाल से ही व्यक्ति के जीवन में सफलता या विफलता भी प्रभावित होती है ऐसा माना जाता है।परिस्थिति कोई भी हो वनस्पतियां मनुष्य की सबसे अच्छी दोस्त कही जा सकती है।

  ये भी पढ़ें- हर्बल टी पीने के इतने सारे फायदे

भारतीय वेद और वनस्पति

भारतीय वेदो में वनस्पतियों का वृहद् ज्ञान संचित है। आदि काल से ही मनुष्य के सबसे अधिक मददगार यह पेड़ पौधे या वनस्पतिया ही रही हैं। भारतीय शास्त्रों में भी ग्रहों को अनुकूल बनाने हेतु वनस्पतियों की प्रमुख भूमिका मानी गयी है। तथा नवग्रहों के अनुकूल पौधों का वर्णन भी किया गया है। संयोग से छिंदवाड़ा में माता हिंगलाज के मंदिर प्रांगण में यह सभी पौधे एक साथ पाए जाते हैं। ऐसा कहा जाता है की इस बगीचे में स्वयं भगवान् आते हैं।

इसे भी पढ़ें- सेंधा नमक और समुद्री नमक के बीच का अंतर

इस वाटिका में हर ग्रह के उपाय के लिए पेड़ पौधे हैं जो अपने स्वामी की मूर्ति के साथ हैं।

1 सूर्य ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

अकोना का पौधा सूर्य गृह के उपाए के लिए निश्चित किया गया है। ऐसा माना जाता है की अकोना के पौधे की पूजा अर्चना से बौद्धिक शक्ति बढ़ती है।

इसे भी पढ़ें – खाना पकने वाले बर्तन कैसे हों

2 चंद्र ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

पलाश का पौधा चंद्र ग्रह के लिए सुनिश्चित है। जिसे ढाक का पौधा भी कहते हैं। होली में बनाये जाने वाले रंग टेसू के फूलों से ही बनाये जाते हैं।

3 मंगल ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

खैर का पौधा मंगल ग्रह की शांति के लिए शुभ होता है। जो की रक्त विकार एवं त्वचा सम्बन्धी रोगों के लिए भी उपयुक्त रहता है।

इसे भी पढ़ें – आयुर्वेदिक मसाला चाय बनाने की आसान विधि 

4 बुद्ध ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

बुद्ध गृह के लिए आंधी झाड़ा के पौधे का उल्लेख मिलता है। इसके रस को पानी में मिला कर स्नान करने से मानसिक संतुलन ठीक होता है।

5 गुरु ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

पारस पीपल का पौधा गुरु गृह के लिए मन जाता है। इसके पूजन से बहुत अधिक लाभ मिलता है। तथा बेहतर ऑक्सीजन की प्राप्ति होती है।

इसे भी पढ़ें- रोटी Roti के बारे में संपूर्ण ऐतिहासिक जानकारी

6 शुक्र ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

गूलर / उमर के मेल को शुक्र ग्रह हेतु प्रभावशाली माना गया है।

7 शनि ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

शनि के लिए शमी का पौधा माना जाता है। शमी के पौधे से सभी प्रकार की बाधाएं दूर होती हैं।

इसे भी पढ़ें- पकिस्तान में स्थित हिंगलाज मंदिर का रहस्य

8 राहु ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

राहु ग्रह के लिए चन्दन के वृक्ष की पूजा की जाती है।

9 केतु ग्रह के शांति के लिए पेड़, पौधा

नीम के पौधे की पूजा अर्चना केतु के प्रकोप को समाप्त कर सकती है।

इसे भी पढ़ें –कहीं आप या आपके आसपास कोई डिप्रेशन का शिकार तो नहीं ? जानें इससे बचने का तरीका | Depression Treatment at Home

इसे भी पढ़ें – मदार (आक ) के पौधे के आयुर्वेदिक फायदे | Aak ke paudhe ke Ayurvedic fayde  

इसे भी पढ़ें- पकिस्तान में स्थित हिंगलाज मंदिर का रहस्य

4 thoughts on “हिंगलाज का पौधा और उसके फायदे benefits of hinglaj plant in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *