गोंद के लड्डू ताकत से भरपूर सुस्ती रक्खे दूर ? Gond ke laddu khane ke fayde

Spread the love

गोंद के लड्डू सर्दियों के मौसम में क्यों खाने चाहिए ? इस विषय पर बात करने के पहले ये जानना ज़रूरी है की –

  • गोंद क्या होता है?
  • कहाँ से प्राप्त होता है गोंद ?
  • गोंद के क्या गुण धर्म होते हैं ?

खाने में इस्तेमाल होने वाला गोंद एक प्राकृतिक पदार्थ है। ये चिपचिपा और पानी में घुलनशील पदार्थ है। ये एक्सेल वुड के पेड़ों से प्राप्त होता है।

मुख्यतः गोंद का सेवन लड्डू बना कर किया जाता है। पंजीरी बनाने में भी इसका काफी प्रयोग होता है। पंजीरी तथा लड्डू दोनों की ही रेसिपी काफी हद तक एक जैसी ही होती है। दोनों में ही प्रयोग होने वाली सामग्री भी लगभग एक जैसी ही होती है। लड्डू या पंजीरी बनाने में गेहूं का आंटा, चीनी, घी, काजू, बादाम, किशमिश इत्यादि मेवे, इलाइची को एक साथ मिलाया जाता है।

इसे भी पढ़ें –सौंफ और अजवाइन के हैरान करने वाले फायदे

Gond ke laddu कैसे बनाते हैं ? Gond ke laddu banane ki vidhi

इस लड्डू या पंजीरी को बनाने की विधि भी काफी आसान है सर्वप्रथम गोंद को कड़ाही में डाल कर तलते है जिससे गोंद गीला हो जाता है तथा कांच के सामान दिखाई देने लगता है। अब सभी सामग्री को आपस में मिलते हैं। तथा इनके लड्डू बांध लेते हैं।

अन्य भाषाओँ में खाने वाले गोंद के नाम

S. No.LanguageSynonyms
1.Hindi (हिंदी) धोय (Dhoye)
2.sanskrit (संस्कृत)ढ़ाक (Dhak)
3.Bangali(बंगाली) कोथरी (Kothri)
4.Tamil(तमिल) गोंध (Gondh)
5.Rajasthani (राजस्थानी)गांध (Gandh)
6. Marathi (मराठी) दिनक (Dinak)

इसे भी पढ़ें – कामलता के फूलों की ऐसी जानकारी जो और कही नहीं मिलेगी

गोंद के लड्डू के आयुर्वेदिक फायदे Gond ke laddu ke fayde

आयुर्वेद में गोंद का काफी महत्त्व है। ये तासीर में काफी गर्म होता हैं। इसीलिए ठण्ड के मौसम में ये हमारे शरीर को गर्म रखते हैं। ये कैल्शियम, प्रोटीन और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं इसलिए हमारी हड्डियों को मज़बूती देते हैं। जोड़ों में तेल की मात्रा बनाये रखते हैं इसलिए गोंद के लड्डू से जोडों के दर्द में लाभ मिलता है। पीठ या कमर के दर्द में भी ये लड्डू बड़े ही लाभदायक होते हैं।

इसे भी पढ़ें – Amritdhara सर्दी जुकाम का घरेलू उपचार /कपूरधारा/जीवन रसायन बनाने की विधि

गर्भावस्था में Gond ke लड्डू खाने के फायदे gond ke laddu after delivery in hindi

डिलीवरी के बाद महिलाओं के लिए गोंद के लड्डू विशेष रूप से बनवाए जाते हैं। गर्भावस्था में महिलाओं को कैल्शियम की बहुत आवश्यकता होती है। ऐसी अवस्था में कमर दर्द या पीठ का दर्द इन लड्डुओं से कम होता है। हड्डियां मज़बूत होती हैं।

इसे भी पढ़ें – 32 Best kitchen tips in hindi किचन की किच-किच से बचाने वाले किचेन टिप्स

अक्सर ये पूछा जाता है की डिलीवरी के बाद कौन से लड्डू खाने चाहिए ? डिलीवरी के बाद और स्तनपान करने वाली महिलाओं को इम्युनिटी मज़बूत करने के लिए तथा फाइबर, कैलोरी और वसा की ज्यादा आवश्यकता होती है जिससे माँ को स्तनपान करने के लिए ज्यादा ताकत मिल सके और शरीर की रिकवरी जल्दी हो सके।

प्रसव के बाद शरीर को काफी ज्यादा पोषक तत्वों की जरुरत होती है। ज्यादातर सिजेरियन डिलीवरी के बाद कमजोरी आजाती है। ऐसे में गोंद प्रसव के बाद शरीर की जल्दी रिकवरी करता है। गोंद के सेवन से दूघ का उत्पादन बढ़ता है। हाला की इस बात के लिए कोई शोध या प्रमाण नहीं हैं। परन्तु सदियों से ये नुस्खा हर घर में अपनाया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें – क्यों है चौलाई खाना इतना ज़रूरी ? चौलाई के फायदे अगर जान गए तो रोज खाएंगे लाल साग।

सर्दी में गोंद के लड्डू खाने के फायदे Gond ke laddu benefits in winter in hindi

ठंड में गोंद के लड्डू हमारी इम्युनिटी मज़बूत करते हैं। ये हमें सर्दी में होने वाली बिमारियों से बचते हैं। गोंद के लड्डू में आंटा, घी, मेवे इत्यादि काफी पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो बच्चों में ऊर्जा प्रदान करते हैं और वयस्कों में ताकत, इम्मुनिटी और स्थिरता को बढ़ाते हैं।

Gond ke laddu का सेवन कितनी मात्रा में करें ?

गोंद की तासीर काफी गर्म होती हैं। इसलिए सर्दियों में ही इसका सेवन करना उचित रहता है। इसमें पड़ने वाली सामग्रियां जैसे मेवे, घी, चीनी, इत्यादि में काफी ज्यादा कैलोरी होती हैं। इसीलिए इसका सेवन कम मात्रा में ही करना चाहिए।

एक गोंद के लड्डू में कितनी कैलोरी होती है ? ये भी प्रश्न आपके मन में जरूर आ रहा होगा। शायद आपको जानकर हैरानी होगी एक छोटे से लड्डू में 200 से भी ज्यादा कैलोरी होती है। इसीलिए गर्भवती महिलाओं को एक दिन में 1 से ज्यादा लड्डू नहीं खाने चाहिए।

सर्दियों के मौसम में सुबह या रात में सोते समय दूध के साथ 1 लड्डू का सेवन करे।

इसे भी पढ़ें –गुड़ खाने के ये फायदे और नुकसान जानकार रह जायेंगे हैरान

गोंद के laddu खाने के नुकसान Gond ke laddu ke side effects in hindi

ये लड्डू खाने के वैसे तो कोई भी नुकसान नहीं हैं पर यदि इसे अधिक मात्रा में खाया जाये तो पेट में पाचन संबंधी परेशानी हो सकती है।

यदि पेट में या पाचन में किसी तरह की कोई परेशानी हो तो इस का सेवन न करें।

यदि आप गोंद का सेवन करते हैं तो ऐसे में आप पानी जितना ज्यादा हो सके पियें।

इसे भी पढ़ें – क्यों है चौलाई खाना इतना ज़रूरी ? चौलाई के फायदे अगर जान गए तो रोज खाएंगे लाल साग।

2 thoughts on “गोंद के लड्डू ताकत से भरपूर सुस्ती रक्खे दूर ? Gond ke laddu khane ke fayde

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *